Skip to main content

Posts

Featured Post

२४ कैरट सम्पूर्ण बनने के लिए २४ पॉइंटस - Hindi

समाप्ति वर्षमें २४ कैरट सम्पूर्ण बनने के लिए २४ पॉइंटस
१)अमृतवेला (२.० से ४.४५ AM) को ठीक करने का पुरुषार्थ अवश्य करना है । यह वेला मिस न होने के साथ साथ पावरफुल और लवफुल हो इस परभी ध्यान देना है ।बाबा के महावाक्य हैं बच्चे तुम सिर्फ अपना अमृतवेला ठीक करो तो मैं तुम्हारा सब कुछ ठीक कर दूँगा । २)बाबा की साकार और अव्यक्तमुरलियों पर अधिक से अधिक मनन चिंतन करें ।सेवाकेंद्र पर क्लास में मुरली सुनने से संगठन का विशेष बल और वायुमंडल का अतिरिक्त सहयोग मिलता है । ३)
Recent posts

Best Methods & deep points compilation from other sources - Hindi & Eng

यहाँ कुछ सरल एवं महत्वपूर्णज्ञान पॉइंट्स, विधियाँ, व्याख्या, अभ्यास व प्रयोग का संग्रह दे रहे हैं जिससे आपका रूहानी पुरुषार्थसंशयरहित, तीव्र व शक्तिशाली हो ।
Sharing here  some simple and importantknowledge points, methods, definitions, practices and drills compilation which will make your spiritual effortsuspicion free, intense and powerful. बी.के भाई बहनों के लिए कुछ आवश्यक दिनचर्या १.ड्रामा के पॉइंट्स २.परमधाम के ७ अनुभव ३.पूरक ( complimentary ) अष्ट शक्तियां ४.१२ घंटे १२ अभ्यास  ५.बाबा को भोग कैसे व क्या लगायें  ६.मनसा सेवा ७.<

God relations-dharna-slogan - Hindi & Eng

परमात्मा से विशेष ८सम्बन्ध,उससे सम्बंधित दैवी गुणों की धारणाएवं स्लोगन्स प्रस्तुत है जिससे हमेंगुणोंऔरकर्तव्यकी स्मृतियाँ साथ साथ बनी रहे।
Presenting special 8 relationswith God , related divine virtues and slogans so that we are simultaneously aware of our qualities and duties .
Pdf link (Hindi & Eng) : God relations-Dharna-Slogan
Website link           : Rajyoga Course & God Introduction

7 Virtues of soul & it's various relations - Hindi & Eng

आप के समक्षआत्मा के ७ गुण व उनसे विभिन्न सम्बन्ध इसविषय पर यह ज्ञानवर्धक लेख प्रस्तुत है जिससे आपको योग करने में मदद मिलने के साथ साथ दैवी गुणों की धारणा एवं विकारों पर विजय प्राप्त करने में भी सहायक सिद्ध होगी ।
Presenting enlightening article on compilations of  7 virtues of soul and it’s various relations which will not only help you in yoga but also  in imbibing divine virtues and gain victory over the vices.

Pdf link (Hindi & Eng) : 7 virtues of soul & it's various relations Website link           : Spiritual Articles - Hindi & Eng

Expression of Gratitude & Self Experience about God Father SHIVA - Hindi & Eng

मैं तहे दिल से निराकार परमपिता परमात्मा शिव प्रति आभार प्रकट करता हूँ
-परमधाम से इस भ्रष्टाचारी पतित दुनिया में अवतरित होकर साकार माध्यम ब्रह्मा, एदम अथवा आदम द्वारा ईश्वरीय ज्ञानामृत का पान कराने के लिये ।
-पुरानी विकारी दुःखदायी दुनिया को बदल १००% पवित्रता, सुख शान्ति वाली नयी निर्विकारी दुनिया में परिवर्तन करने का दिव्य कार्य निष्पादन करने के लिये ।
-सभी आत्माओं व ५ तत्वों सहित प्रकृति को पावन बनाने के लिये ।
-अपना बच्चा, स्टूडेंट व फॉलोअर बनाने के लिये ।
-रूहानी परमपिता के रूप में ईश्वरीय वर्सा व खजाना देने के लिए, रूहानी परमशिक्षक के रूप में रचयिता और रचना, तीनों लोक व काल का ज्ञान देने के लिए और परमसतगुरु के रूप में वरदान अथवा ब्लेसिंग देने के लिये ।
विश्व की अन्य आत्मायें भी आपको पहचाने और ईश्वरीय वर्सा व खजाने का लाभ उठावें ताकि अंतिम समय उन्हें पश्चाताप ना करना पड़े । अभी नहीं तो कभी नहीं

आखिर में, आओ हम सब मिलकर नशे से यह गीत गायें वाह बाबा वाह, वाह बच्चे वाह और सारे विश्व में यह वायब्रेशन्स फैलाएं कि मेरा बाबा आ गया ।
( बाबा – याने सर्व आत्माओं का रूहानी परमपिता चाहे वे किसी भी आय…

International Yoga day - Rajyoga Meditation - Hindi & Eng

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस( INTERNATIONAL YOGA DAY)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के सुअवसर पर योग ( मेडिटेशन ) का अर्थ, उसका हमारे सामान्य जीवन में महत्व व परमात्मा द्वारा सिखाये गये राजयोग और गुरु व सन्यासियों द्वारा सिखाये गये हठयोग में अंतर शेयर कर रहा हूँ जिससे आपके मन बुद्धि में अधिक स्पष्टता आ जाये । अंत में राजयोग मेडिटेशन पर लघु अभ्यास भी शामिल है ।  Download pdf file - Hindi   :International Yoga day - Rajyoga Meditation - Hindi



On the occasion of International Yoga day, sharing definition of Yoga (meditation), it’s importance in our daily life and contrast between Rajyoga taught by Supreme soul and Hathyoga taught by Gurus and Sanyasis followed by short practice on Rajyoga meditation which will bring more clarity in your mind and intellect..

Download pdf file - Eng :International Yoga day - Rajyoga Meditation - Eng

84 colours of Spiritual awareness - Eng & Hindi

सभीप्रियदैवीभाइयोंऔरबहनोंकोहोलीपर्वकीहार्दिकबधाई
आज सारा विश्व दुःख की होली खेल रहा है क्योंकि सभी एक दूसरे पर पांच विकारों व उनके वंशों के रंगों की बौछार कर रहे हैं । कोई काम का रंग, कोई क्रोध का रंग, कोई लोभ का तो कोई मोह के रंग से रंग रहा है, स्वार्थ, इर्ष्या, द्वेष, घृणा, अमानवता, आकर्षण और आवश्यकता के सूक्ष्म रंग से तो अधिकतर कोई बचा ही नहीं है । इन सबके मूल में है देह अभिमान का रंग जिसके कारण आज आत्मा बदरंग हो गयी है । उसका ओरिजिनल ( वास्तविक ) गुण रूपी रंग जो ज्ञान, शान्ति, प्रेम, सुख, पवित्रता, शक्ति, आनंद का है वह छिप गया है और ऊपर यह विकारों का कीचड़ आ गया है । तो आओ इस नयी दुनिया के आगमन के पहले सभी को आत्मिक रंगों से रंगकर सारे विश्व को आत्ममय बनायें। यह आत्मिक रंग एक परमात्मा के सत्संग द्वारा प्राप्त होती है । शिव परमात्म पिता नयी दुनिया के स्थापनार्थ कल्प कल्प संगमयुग में अवतरित होकर अपने आत्मा रूपी बच्चों को अपने संग के रंग से रंगकर आप समान पवित्र बना देते हैं । यही है सच्ची होली मनाना । लेकिन होली बनने वा होली मनाने के लिए पहले अपवित्रता, बुराई को भस्म करना होगा । भिन्न …